चिंता करना छोड़ के, काम करने में जुटे ~ Quit worrying, start working ~ Motivation Hindi

 चिंता करना छोड़ के, काम करने में जुटे।

यदि तुम जीवन में सुख-शान्ति चाहते हो |

यदि तुम जीवन में उन्नति और विकास चाहते हो |

यदि तुम जीवन में सफलता प्राप्त करना चाहते हो |

तो तुम्हें अपने सबसे घातक शत्रु चिंता को त्याग देना चाहिए |

जिस शक्ति के बल बार तुम्हारी सफलता निर्भर है,

चिन्ता की आग उस शक्ति को जलाकर भस्म कर देती है।

शक्तिहीन होकर तुम किस प्रकार श्रेय और सफलता प्राप्त कर सकते हो |

चिन्ता के त्याग से बची हुई शक्ति तुम्हारे बड़े काम आ सकती है।

तुम यही सोचते हो कि चिंता तुम्हारे अभाव के कारण उत्त्पन होती है |

किन्तु यदि तुम इस विषय पर गहराई से विचार किया जाय तो पता चलेगा कि

अभाव और चिन्ता दो भिन्न बातें हैं।

अभाव की पीड़ा तुम्हें कार्य करने के लिए प्रेरित करती है |

जबकि चिंता तुमको निष्क्रिय बना देती है।

.

जिस अभाव की पूर्ति के बिना, तुमको कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है|

उसको पूरा करने के लिए तुम्हें अवश्य प्रयास करना चाहिए |

किन्तु चिन्ता एक ऐसा असाध्य रोग है

जो तुम्हारे पूरे जीवन को प्रभावित करके, किसी काम का नहीं  छोड़ता है |

यदि तुम जीवन में सुख-शान्ति चाहते हो |

यदि तुम जीवन में उन्नति और विकास चाहते हो |

यदि तुम जीवन में सफलता प्राप्त करना चाहते हो |

तो तुम्हें अपने सबसे घातक शत्रु चिंता को त्याग देना चाहिए |

जिस शक्ति के बल बार तुम्हारी सफलता निर्भर है,

चिन्ता की आग उस शक्ति को जलाकर भस्म कर देती है।

शक्तिहीन होकर तुम किस प्रकार श्रेय और सफलता प्राप्त कर सकते हो |

चिन्ता के त्याग से बची हुई शक्ति तुम्हारे बड़े काम आ सकती है।

तुम यही सोचते हो कि चिंता तुम्हारे अभाव के कारण उत्त्पन होती है |

किन्तु यदि तुम इस विषय पर गहराई से विचार किया जाय तो पता चलेगा कि

अभाव और चिन्ता दो भिन्न बातें हैं।

अभाव की पीड़ा तुम्हें कार्य करने के लिए प्रेरित करती है |

जबकि चिंता तुमको निष्क्रिय बना देती है।

जिस अभाव की पूर्ति के बिना, तुमको कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है|

उसको पूरा करने के लिए तुम्हें अवश्य प्रयास करना चाहिए |

किन्तु चिन्ता एक ऐसा असाध्य रोग है

जो तुम्हारे पूरे जीवन को प्रभावित करके, किसी काम का नहीं छोड़ता है |

रोजमर्रा की बातें तुम्हारे लिए जीवन की समस्या बन जाती हैं।

इन्हें लेकर तुम चिंतित रहते हो |

तुम विभिन्न प्रकार के रोगों के शिकार बन जाते हैं|

अपने शरीर को कमजोर कर लेते हैं|

तुम्हारे बाल सफ़ेद हो जाते है |

तुम जवानी में ही बूढ़े हो जाते हैं।

चिंता तुम्हारे जीवन का अंग बन जाती है |

तुम्हें चैन नहीं लेने देती है |

यदि तुम्हें कोई चिंता करने से रोकता है |

तू वह तुम्हें बुरा लगने लगता है |

चिन्ता सर्पिणी बन कर तुम्हारे मन में बस जाती है |

और तुम्हारे रक्त, माँस का भोजन किया करती है।

यदि तुम चिन्ता को पालोगे, तो तुम्हें अपना रक्त पिलाना ही होगा।

तुम निश्चिन्त रहने की आदत डालो |

तभी तुम यह सोच सकोगे कि

आज नहीं तो कल मैं आजीविका अवश्य प्राप्त कर लूंगा।

आज कहीं भी परिश्रम करके रोटी कमा लूंगा|

कल मैं किसी अच्छे स्थान पर पहुँच जाऊंगा।

परिश्रम एवं पुरुषार्थ के बल पर मैं अवश्य ही अच्छे-अच्छे साधन का प्रबन्ध कर लूँगा।

मैं जीवन युद्ध में हारने वाला नहीं हूँ।

मैं जीवन युद्ध में पीछे हटने वाला नहीं हूँ।

मैं परिश्रम करूँगा और सफलता प्राप्त करूँगा |

मैं अपने लक्ष्य को प्राप्त करके रहूँगा |

मैं अपने बीबी-बच्चो का सहारा बना रहूँगा |

मैं उनके दुःख और अभाव को खत्म कर दूंगा |

मैं अपने पुरुषार्थ को जगाऊंगा |

यदि तुम्हें आत्म-कल्याण की इच्छा है|

जीवन में उन्नति और विकास की आकाँक्षा है |

तुम्हें निरर्थक चिन्ताओं से मुक्त रह कर पुरुषार्थ करना चाहिये।

जैसे कोई व्यक्ति बिना हाथ-पैर हिलाये नदी पार नहीं कर सकता है |

उसी प्रकार चिंता से ग्रस्त होने पर तुम समस्याओं से छुटकारा नहीं पा सकते हो |

यदि तुम चिन्ताओं से मुक्ति पाना चाहते हो |

तो एक काम करो, हर समय काम में लगे रहो |

जब तुम निठल्ले होते हो, चिन्ता तुम्हें जकड लेती है |

चिन्ता तुम्हारे ‘चित्त’ में निवास करती है |

यदि तुम्हारा मन किसी कार्य में व्यस्त रहेगा, तो चिन्ताओं का जन्म ही न हो सकेगा।

तुम्हारा मन मस्तिष्क जितना चिंतामुक्त होगा,

उतना ही वह उतनी ही कुशलता से अपने उत्तरदायित्व का निर्वाह कर सकता है।

इसलिए चिन्ताएँ करना छोड़ देना चाहिए |

मुक्त मन एवं दत्त चित्त होकर कर्त्तव्य का पालन कीजिये|

आप सफल भी होंगे और प्रसन्न भी।


Quit worrying, start working.

If you want happiness and peace in life.

If you want progress and development in life.

If you want to get success in life.

So you must give up worry, your worst enemy.

The power on which your success often depends,

The fire of worry burns that power to ashes.

How can you get credit and success without being powerless?

The energy left over from the renunciation of worry can be of great use to you.

You think that anxiety arises because of your absence.

But if you think deeply about this matter, you will come to know that

Lack and worry are two different things.

The pain of deprivation drives you to act.

Whereas worry makes you passive.

Without the fulfillment of which deficiency, you have to face difficulties.

You must try to fulfill it.

But anxiety is such an incurable disease

Which leaves no use, affecting your whole life.

If you want happiness and peace in life.

If you want progress and development in life.

If you want to get success in life.

So you must give up worry, your worst enemy.

The power on which your success often depends,

The fire of worry burns that power to ashes.

How can you get credit and success without being powerless?

The energy left over from the renunciation of worry can be of great use to you.

You think that anxiety arises because of your absence.

But if you think deeply about this matter, you will come to know that

Lack and worry are two different things.

The pain of deprivation drives you to act.

Whereas worry makes you passive.

Without the fulfillment of which deficiency, you have to face difficulties.

You must try to fulfill it.

But anxiety is such an incurable disease

Which leaves no use, affecting your whole life.

Everyday things become problems of life for you.

You are worried about them.

You become a victim of various kinds of diseases.

weaken your body.

Your hair turns white

You grow old in your youth.

Anxiety becomes a part of your life.

Doesn't let you rest

If someone stops you from worrying.

You make you feel bad

Anxiety becomes a snake and settles in your mind.

And eats your blood and flesh.

If you feed on anxiety, you will have to feed your blood.

Make a habit of being calm.

then you can imagine that

If not today then tomorrow I will definitely get livelihood.

Today I will earn bread by working hard anywhere.

Tomorrow I will reach some good place.

On the strength of hard work and effort, I will definitely make arrangements for good means.

I am not going to lose in the battle of life.

I am not going to back down in the battle for life.

I will work hard and get success.

I will keep on achieving my goal.

I will remain the support of my wife and children.

I will put an end to their sorrow and want.

I will awaken my manhood.

If you desire self-welfare.

There is a desire for progress and development in life.

You should make effort by remaining free from unnecessary worries.

Just like a person cannot cross a river without moving his hands and feet.

Similarly, you cannot get rid of problems when you are suffering from anxiety.

If you want to get rid of worries.

So do one thing, keep working all the time.

When you are lazy, worry overwhelms you.

Anxiety resides in your 'Chit'.

If your mind is busy in some work, then worries will not be born.

Your mind will be as worry free as your mind,

The more he can discharge his responsibility with the same efficiency.

So you should stop worrying.

Perform your duty with a free mind and a dedicated mind.

You will be successful and happy too.

एक टिप्पणी भेजें

1 टिप्पणियाँ

  1. Fortunately, Jackpot City’s welcome bonus is extraordinarily noticeable certainly. After all, 코인카지노 how many of} other casinos are you aware that supply as much as} $1,600 CAD right off the bat? These 4 deposit bonuses all have a one hundred pc match as much as} $400 CAD and wagering necessities of 50x.

    जवाब देंहटाएं